Sarsariya Song Lyrics❤️. Best of Mohenjo Daro

English Introduction: “Sarsariya” song lyrics in Hindi are from the movie “Mohenjo Daro,” beautifully sung by Shashwat Singh and Shashaa Tirupati. The lyrics are penned by Javed Akhtar, and the music is composed by A. R. Rahman. The song features Hrithik Roshan and Pooja Hegde.

amazon lyrics

Hindi Introduction: “सरसरीया” गीत के बोल हिंदी फिल्म “मोहेंजो दारो” से हैं, जिन्हें शश्वत सिंह और शशा तिरुपति ने बेहद सुंदर तरीके से गाया है। इस मनमोहक गीत के संगीत का संवाद ए. आर. रहमान ने किया है, जबकि बोल का काम जावेद अख्तर ने किया है। मुख्य भूमिका में हैं ह्रितिक रोशन और पूजा हेगड़े।

iphone giveaway free lyrics website

AspectInformation
Song NameSARSARIYA
MovieMohenjo Daro (2016)
SingersSHASHWAT SINGH, SHASHAA TIRUPATI
MusicA.R. RAHMAN
LyricsJAVED AKHTAR
Music LabelT-SERIES

Sarsariya Song Lyrics in English

Ye hawa,
Sar-sar-sariya,
Sar-sar-sariya,
Kyun na lehra ke main bhi,
Disha disha nagar nagar jaaun.

Khila khila sa jo,
Mera ye mann hai,
Khila khila sa jo,
Mera ye tann hai.

Jo rang rang hai mere sapne,
To sab rang hi laage apne.

amazonfreedealslyrics1

Jo rut koi chhaayi toh chha jaane de,
Jo aayi angdaai toh aa jaane de,
Hawaayein jo batayein wohi maan le,
Tu mann ki satrangi hai ye jaan le.

Ye sarsarati hawa,
Jaaye chaaron disha,
Aise hi mukt mann mera bhi ho gaya.

Ye hawa,
Sar-sar-sariya,
Sar-sar-sariya,
Kyun na lehra ke main bhi,
Disha disha nagar nagar jaaun.

Lage ke abhi tu hai anjaani,
Jagat mein jitna bhi hai paani,
Hai prem utna mere mann mein,
Tu hi to basi hai mere jeevan mein.

Teri vani mere mann me samati to hai,
Teri baat mujhe sapne dikhati to hai,
Tujhe jo dekhu badhti ye dhadkan to hai,
Hui meethi meethi si mann mein,
Uljhan toh hai.

Yeh sarsaraati hawa
Jaaye chaaron disha
Aise hi mukt mann mera bhi ho gaya

Ye hawa,
Sar-sarsariya,
Sar-sarsariya,
Kyun na lehra ke main bhi,
Disha disha nagar nagar jaaun.

win amazon coupon lyrics

Sarsariya.

Sarsariya Song Lyrics in Hindi

ये हवा,
सर-सर-सरिया,
सर-सर-सरिया,
क्यूँ ना लहरा के मैं भी,
दिशा दिशा नगर नगर जाऊं।

खिला खिला सा जो,
मेरा ये मन है,
खिला खिला सा जो,
मेरा ये तन है।

जो रंग रंग है मेरे सपने,
तो सब रंग ही लगे अपने।

जो रुत कोई छाई तो छा जाने दे,
जो आई अंगड़ाई तो आ जाने दे,
हवाएं जो बताएं वोही मान ले,
तू मन की सतरंगी है ये जान ले।

ये सरसरती हवा,
जाए चारों दिशा,
ऐसे ही मुक्त मन मेरा भी हो गया।

ये हवा,
सर-सर-सरिया,
सर-सर-सरिया,
क्यूँ ना लहरा के मैं भी,
दिशा दिशा नगर नगर जाऊं।

लगे के अभी तू है अनजानी,
जगत में जितना भी है पानी,
है प्रेम उतना मेरे मन में,
तू ही तो बसी है मेरे जीवन में।

तेरी वाणी मेरे मन में समती तो है,
तेरी बात मुझे सपने दिखाती तो है,
तुझे जो देखूँ बढ़ती ये धड़कन तो है,
हुई मीठी मीठी सी मन में,
उलझन तो है।

यह सरसराती हवा,
जाए चारों दिशा,
ऐसे ही मुक्त मन मेरा भी हो गया।

ये हवा,
सर-सर-सरिया,
सर-सर-सरिया,
क्यूँ ना लहरा के मैं भी,
दिशा दिशा नगर नगर जाऊं।

सर-सर-सरिया।

Also read: Mirzya मिर्ज़िया

Source: Youtube

Share Your Reaction Please

Leave a Comment