Tu Hai Kahan Song Lyrics❤️. Best of Raffey,Usama,Ahad

English introduction: “Tu hai kahan” is an artistic masterpiece by Usama Ali and Ahad Khan, with production and mix mastery by @raffeyanwarr. The mesmerizing visuals are crafted by Raffey Anwar, edited by Zyan Malik, creating an immersive experience that transcends boundaries. A testament to collaborative brilliance.

amazon lyrics

Hindi Introduction: “तू है कहाँ” एक कलात्मक श्रेष्ठकृति है, जिसे उसामा अली और आहद खान ने लिखा और प्रस्तुत किया है, @raffeyanwarr द्वारा निर्मित और मिक्स मास्टरी. रफी अंवर द्वारा रचित चित्रसौंदर्य और ज़यन मलिक द्वारा संपादित, एक सीमाएँ पार करने वाला अनुभव बनाता है। सहयोगी प्रतिभा का प्रतीक।

iphone giveaway free lyrics website

AspectName
Song NameTU HAI KAHAN
Youtube ChannelAUR
LyricsUsama Ali, Ahad Khan
Produced/Mix Mastered@raffeyanwarr
Video DirectorRaffey Anwar
Video EditorZyan Malik

Tu hai kahan Song Lyrics in English

Ki jab mai had se agey badh gaya tha ashiqi me,
Ya′ani zindagi ko ley raha mazaq hi main,
Phir mazaq hi me mil gaya sab khak hi me,
Chhu kar aya manzilein to tanha tha main wapsi mein,
Jaise phool torey honge tumne jholi bharr ke,
Main wo phool jo k reh gaya tha shaakh hi me,
Jaise khuwab hi me khuwabgaahein ankh hi me,
Pal se pal me kya hua tum reh gaye bass yaad hi me,
Ek Sawal Machalta hai mere dil me kabhi,
Tujhe main bhool jaa’on ya tujhe main yaad karun,
Tujhi ko soch ke likhat hu jo bhi likhta hun,
Ab likh raha hun to phir q na ek sawal karun,
Main iss sawal se ghum ko badal do′on khushiyo’on me,
Par in bejaan si khusiyo’on se kiya kamaal karun,
Par ab sawal bhi kamaal tu sambhaal ley filhaal,
Ye sawaal bichaa jaal kiya me chaal chalun,
Chaal chal tu apni main tujhe pehchaan lo′onga,
Main apni mehfilo′on me sirf tera hi naam lo’onga,
Tujhe pasand hai dheemah lehjaa aur bass khamoshiya′an,
Main tere khaatir apni khud ki saansein tham lo’onga,
Kya tere saarey aansu mere ho sakte hain,
Aisa hai to tere khaatir hum bhi roo saktey hain,
Mere khatir mere rone par bss tum hans dena,
Ek bar tere muskurahat ke peechey hum sab kuch kho skate hain,
Kya meri mohabato′on ka koi hisaab nahi hai,
Kyun tere ankho’on me mere liye koi khuwaab nahi hai,
Tujhe kya hi karun ghumzada ab jane de,
Key tere pass mere piyaar ka jawaab nahi hai,
Kitni muddatein hui hain tumne khat kyun nahi bheja,
Gaa leta hun tere liye mausiqi nahi hai pesha,
Aaney ki khabar hi nahi teri ab,
Ab kya muasamo′on se puchu tere aaney la andesha.

Ankho’on me aanso’on nahi hai,
Kahan hai tu, Kahan tu nahi hai,
Dil ko ye ab jaan′na hi nahii,
Bas tum chale aaoo.

Tu hai kahaan?
Khuwab′on ke is shehar me mera dil tujhe dhuundta,
Dhuundtaa,
Arsa hua,
Tujhko dekha nahi tu na jaane kahan chhup gaya,
Chhup gaya.

amazonfreedealslyrics1

Aao phir se hum chalein,
Thaam lo ye haath, kar do kam ye faslay,
Na pata ho manzilon ka, na ho rastey,
Tu ho main hu baithein dono phir hum taaron ke talay,
Na subah ho phir, na hi din dhale,
Kuch na keh sakein, kuch na sun sakein,
Baatein sari woh, dil me hi rahein,
Tum ko kya pata hai kya ho tum mere liye,
‘Kehkasha′ ho tum,
‘Kahaniyon ki pariyon′ ki tarhan ho tum,
Mujh me aa sake na koi is tarhan ho tum,
Ho ‘Yaqeen′ tum mera ya phir ‘Gumaan ho tum mmmmmmm,
‘Aashiyan′ ho tum,
Main ′Bhatka sa musafir’ aur ′Makaan’ ho tum,
Meri manzilon ka ek hi ′Raasta’ ho tum,
Dhuundta hai dil tujhe bata kahan ho tum? mmmmmm
Ho jahan kahin bhi,
Aao paas taake aansu mere tham sakein,
Yaad aarahe ho tum mujhe ab har lamhe,
Aisi ′Zinadagi’ ka kiya,
Jo tum ‘Zindagi′ me hoke meri ′zindagi’ na ban sake,
Sochta rahun ya bhuul jaaun ab tumhe?
Tum mil hi na sakogi to phir kaise chahun ab tumhe,
Tere saare khuwab pal me jod denge,
Jisme tu hi na basega phir wo dil hi tod denge,
Chhod denge wo shehar, ke jisme tum na hoge,
Tuut jayenge makaan, wo saare hasraton ke,
Gujre pal jo saath tere,
Wo pal hain bas sukoon ke,
Mil lo ab tum is trah ke phir nahi miloge.

Tu hi tha saath me mere,
Kaise main jiun ga akele,
Taare gingin ke hogayai hai subah,
Tu hai kahan?
Khuwabo′on ke is shehar me mera dil tujhe dhuundta,
Dhuundta,
Arsa hua,
Tujhko dekha nahin tu na jaane kahan chhup gaya,
Chhup gaya.

Tu hai kahan Song Lyrics in Hindi

कि जब मैं हद से आगे बढ़ गया था आशिक़ी में,
यानी ज़िंदगी को ले रहा मज़ाक ही मैं,
फिर मज़ाक ही में मिल गया सब ख़ाक ही में,
छू कर आया मंज़िलें तो तन्हा था मैं वापसी में,
जैसे फूल टूटे होंगे तुमने झोली भर के,
मैं वो फूल जो के रह गया था शाख़ ही में,
जैसे ख़्वाब ही में ख़्वाबगाहें आँख ही में,
पल से पल में क्या हुआ तुम रह गए बस याद ही में,
एक सवाल मचलता है मेरे दिल में कभी,
तुझे मैं भूल जाऊँ या तुझे मैं याद करूँ,
तुझी को सोच के लिखता हूँ जो भी लिखता हूँ,
अब लिख रहा हूँ तो फिर क्यों ना एक सवाल करूँ,
मैं इस सवाल से ग़म को बदल दूँ ख़ुशियों में,
पर इन बेजान सी ख़ुशियों से किया कमाल करूँ,
पर अब सवाल भी कमाल तू संभाल ले फिलहाल,
ये सवाल बिछा जाल किया मैं चाल चलूँ,
चाल चल तू अपनी, मैं तुझे पहचान लूँगा,
मैं अपनी महफ़िलों में सिर्फ़ तेरा ही नाम लूँगा,
तुझे पसंद है धीमा लहजा और बस ख़ामोशियाँ,
मैं तेरे ख़ातिर अपनी ख़ुद की साँसें थम लूँगा,
क्या तेरे सारे आंसू मेरे हो सकते हैं,
ऐसा है तो तेरे ख़ातिर हम भी रू सकते हैं।
मेरे ख़ातिर मेरे रोने पर बस तुम हंस देना,
एक बार तेरे मुस्कुराहट के पीछे हम सब कुछ खो सकते हैं,
क्या मेरी मोहब्बतों का कोई हिसाब नहीं है,
क्यों तेरे आँखों में मेरे लिए कोई ख़्वाब नहीं है,
तुझे क्या ही करूँ ग़मज़ादा अब जाने दे,
के तेरे पास मेरे प्यार का जवाब नहीं है,
कितनी मुद्दतें हुई हैं तुमने ख़त क्यों नहीं भेजा,
गा लेता हूँ तेरे लिए मौसिकी नहीं है पेशा,
आने की ख़बर ही नहीं तेरी अब,
अब क्या मौसमों से पूछूँ तेरे आने का अंदेशा।

आँखों में आंसूओं नहीं है,
कहाँ है तू, कहाँ तू नहीं है,
दिल को ये अब जानना ही नहीं,
बस तुम चले आओ।

तू है कहाँ?
ख्वाबों के इस शहर में मेरा दिल तुझे ढूंढता,
ढूंढता,
अर्सा हुआ,
तुझको देखा नहीं तू ना जाने कहाँ छुप गया,
छुप गया।

आओ फिर से हम चलें,
थाम लो ये हाथ, कर दो कम ये फासले,
ना पता हो मंज़िलों का, ना हो रास्ते,
तू हो मैं हूँ बैठें दोनों फिर हम तारों के तले,
ना सुबह हो फिर, ना ही दिन ढले,
कुछ ना कह सकें, कुछ ना सुन सकें,
बातें सारी वह, दिल में ही रहें,
तुम को क्या पता है क्या हो तुम मेरे लिए,
‘कहकशाँ’ हो तुम,
‘कहानियों की परियों’ की तरह हो तुम,
मुझ में आ सके ना कोई इस तरह हो तुम,
हो ‘यक़ीन’ तुम मेरा या फिर ‘गुमान’ हो तुम,
‘आशियाँ’ हो तुम,
मैं ‘भटका सा मुसाफिर’ और ‘मकान’ हो तुम,
मेरी मंज़िलों का एक ही ‘रास्ता’ हो तुम,
ढूँढता है दिल तुझे बता कहाँ हो तुम? म्म्म्म्म्म्म
हो जहाँ कहीं भी,
आओ पास ताके आंसू मेरे थम सकें,
याद आ रहे हो तुम मुझे अब हर लम्हे,
ऐसी ‘ज़िंदगी’ का किया,
जो तुम ‘ज़िंदगी’ में होके मेरी ‘ज़िंदगी’ न बन सके,
सोचता रहूँ या भूल जाऊँ अब तुम्हें?
तुम मिल ही ना सकोगी तो फिर कैसे चाहूँ अब तुम्हें,
तेरे सारे ख्वाब पल में जोड़ देंगे,
जिसमें तू ही ना बसेगा फिर वह दिल ही तोड़ देंगे,
छोड़ देंगे वह शहर, जिसमें तुम ना होगे,
तूट जाएंगे मकान, वह सारे हसरतों के,
गुजरे पल जो साथ तेरे,
वह पल हैं बस सुकून के,
मिल लो अब तुम इस तरह के फिर नहीं मिलोगे।

तू ही था साथ में मेरे,
कैसे मैं जिऊँ गा अकेले,
तारे गिनगिन के हो गए हैं सुबह,
तू है कहाँ?
ख्वाबों के इस शहर में मेरा दिल तुझे ढूंढता,
ढूंढता,
अर्सा हुआ,
तुझको देखा नहीं तू ना जाने कहाँ छुप गया,
छुप गया।

win amazon coupon lyrics

Also read: Bulleya बुल्लेया

Source: Youtube

Conclusion

“Tu Hai Kahan” stands as a testament to the collaborative genius of Usama Ali and Ahad Khan, brilliantly complemented by the production and mix expertise of @raffeyanwarr, creating a musical masterpiece that resonates with emotion.

Leave a Comment